ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
मोतिहारी(पू.चं.) :: शहर में फैलने लगा है डेंगू का प्रकोप, बरतें सावधानी
October 18, 2019 • aaditya prakash srivastava

विजय कुमार शर्मा, कुशीनगर केसरी, मोतिहारी, बिहार। रक्सौल नगर परिषद क्षेत्र के विभिन्न वार्डों में डेंगू के मरीज मिलने से लोगों की बेचैनी बढ़ने लगी है। आसपास गंदगी को देखकर वार्ड के लोग नगर परिषद व जनप्रतिनिधियों का दरवाजा खटखटाना शुरू कर दिए हैं लेकिन स्थानीय प्रशासन इसे गंभीरता से नहीं ले रहा है। शहर के नागा रोड के कई वाड व मोहल्लों के साथ विभिन्न चौक-चौराहों पर कूड़ा-कचरा जमा हो रहा है। वहीं शहर के कई नाले खुले पड़े हैं जो, डेंगू मच्छर पैदा होने के कारण बन सकते हैं। व्यवस्थित ड्रेनेज सिस्टम के अभाव में कई जगहों पर नाली का पानी सड़क के ऊपर से बहता है। ऐसे जगहों पर डेंगू मच्छर आसानी से जन्म ले सकते है। जिनके काटने पर लोग गंभीर बीमारी से ग्रसित हो जाते है। डेंगू के मच्छर के काटने से बुखार हो जाता है। ऐसे मरीजों का शरीर में प्लेटलेट कीटाणुओं की संख्या गिरने लगती है। जिसे मरीज खतरे में चला जाता है।

कई महीनों से खराब पड़ा फॉगिग मशीन :::::: नगर परिषद क्षेत्र में दवा का छिड़काव के लिए नगर परिषद का फॉगिग मशीन कई महीनों से खराब पड़ा है। इसके मरम्मती की बात हर बार कही जाती है। लेकिन, मरम्मती नहीं होती। शहर के लोगों की स्वास्थ्य को देखते हुए नगर परिषद इसे गंभीरता से नहीं ले रहा है। डेंगू मच्छर से बचाव ही बेहतर इलाज ::::: कई दिनों से जलजमाव व गंदगी वाले जगहों पर डेंगू के मच्छर पाए जाते हैं। ये मच्छर जब किसी को काट लेते हैं तो वह अचानक तेज बुखार से ग्रसित हो जाता है। बदन में दर्द, जोड़ में दर्द आदि होना शुरू हो जाता है। ऐसी परिस्थितियों में मरीज को तुरंत अस्पताल ले जाना चाहिए। ध्यान रहे कि मरीज के शरीर में पानी की कमी नहीं हो। इसके लिए ओआरएस, माड़, दाल, नारियल पानी आदि देते रहना चाहिए। साथ ही मच्छरों की उत्पत्ति नहीं हो इसके लिए कुलर, घर के आसपास, नालियों आदि में जलजमाव नहीं होने दें। डाक्टर एसके सिंह प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ने बताया कि डेंगू के मरीज के इलाज में बुखार को कम किया जाता है। निर्धारित सीमा तक प्लेटलेट होने पर पीएचसी में इलाज किया जा सकता है। लेकिन निर्धारित सीमा से घटने पर ब्लड़ बैंक और आइसीयू वाले अस्पताल में इलाज के लिए रेफर कर दिया जाता है। आशा, आंगनबाड़ी सेविका आदि के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जा रहा है। गौतम आनंद कार्यपालक पदाधिकारी ने कहा..... साफ-सफाई के तहत शहर के विभिन्न वार्डों में ब्लीचिग पाउडर का छिड़काव किया जा रहा है। वहीं नप कर्मी व वार्ड पार्षदों को क्षेत्र में गंदगी व जलजमाव वाले क्षेत्रों को चिह्नित कर दवा के छिड़काव कराने में बढ़-चढ़कर भाग लेने को कहा गया है। फिलहाल फॉगिग मशीन खराब है। इसे मरम्मती का कार्य किया जा रहा है। जल्द ही शहर में दवा का छिड़काव होगा।