ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
मिर्जापुर :: जिलाधिकारी ने की विकास कार्यक्रमों की प्रगति की समीक्षा, शासन की प्राथमिकता वाले विकास कार्यक्रमों की प्रगति में जनपद नौवें स्थान पर
January 10, 2020 • aaditya prakash srivastava • राजनीति

अन्नपूर्णा श्रीवास्तव, मिर्जापुर। जिला अधिकारी सुशील कुमार पटेल ने कलेक्ट्रेट सभागार में शासन की प्राथमिकता वाले विकास कार्यक्रमों की प्रगति की समीक्षा की। इस दौरान बताया कि वर्तमान में शासन की प्राथमिकता वाले विकास कार्यक्रमों में जनपद का नौवां स्थान प्राप्त हुआ है। जिस पर जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल ने श्रेणी सी व डी में आने वाले विभागों को चेतावनी देते हुए कहा कि विकास कार्यो में तेजी लाते हुए कम से कम बी व ए में ले आए ताकि कि जनपद का स्थान अग्रणी श्रेणी में आ सके। इस अवसर पर जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी ने कैलाश नाथ ने जिलाधिकारी को बताया कि 132 नवीन प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों में पुलिस विभाग के 37 कार्यक्रमों मैं ए की श्रेणी में 11 बी में 8 सी में एक तथा श्रेणी डी में 13 व एन में 4 मत प्राप्त हुए हैं इसी प्रकार पुलिस विभाग के अतिरिक्त शेष 95 मदों में श्रेणी ए में 75 मत बी में पांच डी में 10 तथा एन में 5 मत प्राप्त हुए हैं प्रदेश के जनपदों में जनपद का नवांं स्थान प्राप्त हुआ है।

समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी ने सभी विभागों के विभागाध्यक्षों को कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया तथा ओडीओपी के अंतर्गत प्रगति और बढ़ाने का निर्देश दिया इसी प्रकार सामाजिक वनीकरण में ग्रामीण विकास मेंलगाए गए वृक्षारोपण में विकासखंड नारायणपुर, पटैहरा, लालगंज व सिटी से जियो टैगिंग ना होने के कारण प्रगति पीछे हैं। एक सप्ताह के अंदर जियो टैगिंग उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया। इसी प्रकार इन्वेस्टर मीट में प्रगति पर जिलाधिकारी द्वारा नाराजगी व्यक्त की गई। इस दौरान मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना, पेंशन, छात्रवृत्ति, मनरेगा एवं स्वास्थ्य लोक निर्माण विभाग, सिंचाई विभाग, कुपोषित गांवों की प्रगति, विद्युत सहित अन्य विभागों के विस्तृत समीक्षा की गई तथा प्रगति बढ़ाने का निर्देश देते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि वर्तमान वित्तीय वर्ष में बहुत ही कम ही समय और शेष रह गया है। अतः सभी विभाग इस वित्तीय वर्ष में पूर्ण करने वाले कार्यों में तेजी लाकर पूर्ण कराना सुनिश्चित करें समीक्षा बैठक में 50 लाख से ऊपर वाले निर्माण कार्यो की भी समीक्षा की गई जिसमें बताया गया कि सीएनडीएस के बीच निर्माण कार्य में अभी तक 3 पूर्ण 17 अधूरे हैं जिनमें 4 विवादित होने के कारण अनारंभ है। इसी प्रकार आवास विकास परिषद के आठ कार्य में एक पूर्ण तथा एक अनारंभ है 6 प्रगति पर हैंं। जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि अनारंभ कार्य की कार्यवाही करते हुए तत्काल प्रारंभ कराया जाए। यीपीपीसीएल के 9 कार्य में 8 प्रगति पर बताया गया। एक कार्य हालिया में पीएचसी निर्माण को एक सप्ताह के अंदर कार्य प्रारंभ करने का निर्देश दिया गया। सिंंडको के पांच कार्य में से सभी कार्य प्रगति पर बताया गया तथा लोक निर्माण विभाग व राजकीय निर्माण निगम के कार्यों की भी समीक्षा की गई। जिलाधिकारी ने मेडिकल कॉलेज अस्पताल में नए भवन के कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया जिलाधिकारी ने यह भी कहा कि जिला योजना 2020-21 के लिए कार्ययोजना जिस विभाग के द्वारा अभी तक नहीं दिया गया है वे 2 दिन के अंदर उपलब्ध करा दें उन्होंने यह भी कहा कि आगामी वित्तीय वर्ष के वृक्षारोपण के लिए 50 लाख 73 हजार का लक्ष्य शासन द्वारा निर्धारित किया गया है सभी ऐसे विभाग जीसे वृक्षारोपण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है अभी तैयारी प्रारंभ कर दे ताकि समय रहते कार्य प्रारंभ किया जा सके। अंत में जिलाधिकारी द्वारा अमृत योजना के तहत निर्माणाधीन कार्यो की भी समीक्षा की गई तथा संबंधित अधिकारियों से विस्तृत विवरण मांगा तथा कहा कि कौन सा कार्य कब प्रारंभ किया गया वह पूर्ण होने की तिथि तथा किस पर कितना धनराशि प्राप्त है कितना व्यय किया गया पूर्ण विवरण 2 दिन के अंदर उपलब्ध कराएं। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी प्रियंका निरंजन, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर ओपी तिवारी, परियोजना निदेशक डीआरडीए ऋषि मुनि उपाध्याय, उप निदेशक कृषि डॉ अशोक कुमार उपाध्याय, जिला विकास अधिकारी एएन मिश्रा, जिला कार्यक्रम अधिकारी पीके सिंह, अधिशासी अभियंता लोक निर्माण विभाग विद्युत व सिंचाई विभाग के अलावा अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।