ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
मिर्जापुर :: डीएम ने विकासखंड कोन, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र व प्राथमिक विद्यालय का किया औचक निरीक्षण, 05 कर्मचारी गायब मिले वेतन काटने का दिया निर्देश
January 11, 2020 • aaditya prakash srivastava • सामान्य

अन्नपूर्णा श्रीवास्तव, मिर्जापुर। जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल नेे कलेक्ट्रेट में जनता मुलाकात के बाद विकासखंड कोन पहुंचकर औचक निरीक्षण किया। जिलाधिकारी विकासखंड कोन में लगभग 11:26 पर पहुंचे खंड विकास अधिकारी के बारे में जानकारी करने पर बताया गया कि उनके पास सिटी विकासखंड का भी चार्ज है वर्तमान में वे सिटी विकासखंड में हैं। वहीं डीएम ने विकासखंड कोन के अलावा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और प्राथमिक विद्यालय का भी औचक निरीक्षण किया जिसमें 05 कर्मचारी गायब मिले जिनका वेतन काटने का निर्देश भी दिया।

निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी द्वारा कर्मचारियों से यह कहने पर कि निरीक्षण के बारे में भी किसी को जानकारी न दी जाए के बावजूद भी जेईएमआई राजेश कुमार द्वारा किसी प्रधान को फोन पर जानकारी दी गई जिस पर आदेश की अवहेलना करने पर जेएमआई राजेश कुमार का 02 दिन का वेतन काटने का निर्देश दिया। अधिकारियों कर्मचारियों की उपस्थिति रजिस्टर देखने पर पाया गया कि प्रहलाद सिंह TA, संदीप कुमार TA, गुड्डू प्रसाद TA तथा दिनेश कुमार TA, अनुपस्थित रहे जिनका 01 दिन का वेतन काटने का निर्देश दिया गया l इस दौरान जिलाधिकारी द्वारा सभी पटेल का निरीक्षण किया गया तथा आसपास सफाई के निर्देश दिए गए l विकासखंड के कंप्यूटर कक्ष निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी द्वारा कंप्यूटर ऑपरेटर से ग्राम सभाओं में मनरेगा अंतर्गत चल रहे कार्यों व आवास योजना के बारे में जानकारी ली गई, इस दौरान बताया गया कि मनरेगा के अंतर्गत 44 ग्राम सभाओं के सापेक्ष 38 स्थान पर काम चल रहा है l इसी प्रकार आवास योजना के अंतर्गत बताया गया कि 72 आवासों के निर्माण के लिए प्रथम किस्त, 51 को द्वितीय किस्त तथा एक आवाज के लिए तृतीय किस्त जारी कर दी गई है l यह भी बताया गया कि वर्तमान वित्तीय वर्ष के अंतर्गत 101 आवास के सापेक्ष सभी को प्रथम किस्त , 91 को द्वितीय तथा 88 आवास में तृतीय किस्त जारी किया गया है l

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कोन का भी किया निरीक्षण

विकास खंड कार्यालय के निरीक्षण के बाद जिलाधिकारी द्वारा विकासखंड परिसर में ही प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कोन का भी निरीक्षण किया गया इस अवसर पर डॉ धीरज कुमार डॉ विनोद कुमार सिंह वाह डॉ रेखा पाठक उपस्थित पाई गई l निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी द्वारा मरहम पट्टी कक्ष , औषधि कक्ष, वैक्सीन शीत श्रृंखला कक्ष सहित वार्ड का भी निरीक्षण किया गया l निरीक्षण के दौरान कुत्ता काटने के इंजेक्शन लगाए जाने के बारे में पूछने पर MOIC धीरज कुमार द्वारा बताया गया कि सप्ताह में 2 दिन इंजेक्शन लगाया जाता है जबकि जिलाधिकारी द्वारा मुख्य चिकित्सा अधिकारी से वार्ता के बाद बताया गया कि प्रतिदिन इंजेक्शन लगाया जाता है जिस पर जिलाधिकारी द्वारा MOIC को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि प्रतिदिन इंजेक्शन लगाए जाने संबंधी बोर्ड तत्काल लिखवाया जाए l इस दौरान जिलाधिकारी द्वारा ओपीडी में जाकर मरीजों के कराए गए रजिस्ट्रेशन रजिस्टर को भी देखा गया तदुपरांत प्रसूति वार्ड में जाकर उपस्थित मरीज व उनके परिजनों से अस्पताल में मिल रही सुविधाओं के बारे में भी जानकारी ली गई l

प्राथमिक विद्यालय लखनपुर का निरीक्षण

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के निरीक्षण के बाद जिलाधिकारी द्वारा विकासखंड कोन के अंतर्गत ग्राम लखनपुर के प्राथमिक विद्यालय में जाकर औचक निरीक्षण किया गया, इस अवसर पर चिकित्सकों के द्वारा मौके पर बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण करते हुए पाया गया। जिलाधिकारी द्वारा MDM का निरीक्षण किया जिसकी गुणवत्ता ठीक पाई गई। मीनू के अनुसार तहरीर बनी थी। स्कूल का शौचालय, हैंड was तथा बच्चों के खाना खाने का स्थान की सफाई पर जिलाधिकारी द्वारा संतोष व्यक्त किया गया। उपस्थिति रजिस्टर के द्वारा पाया गया कि 4 अध्यापक में एक अध्यापक अवकाश पर हैं शेष तीन उपस्थित रहे बच्चों की उपस्थिति में पाया गया कि रजिस्टर में 72 बालक 85 बालिका जिसमें एक दिव्यांग छात्र का नामांकन किया गया है एमडीएम रजिस्टर में 74 उपस्थित बालकों को दर्ज किया गया पाया गया। सभी अध्यापकों का नाम मोबाइल नंबर व फोटो ग्राफ चार्ट दीवाल पर न लगे रहने से जिलाधिकारी द्वारा पूछने पर प्रधानाध्यापक द्वारा अलमारी से निकालकर चार्ट दिखाया गया था जिस पर जिलाधिकारी ने तत्काल दीवाल पर लगाने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी के पहुंचने पर कुछ बच्चे गेट के बाहर सड़क पर घूमते हुए मिले जिस पर जिलाधिकारी ने अध्यापकों को निर्देशित किया गया कि गेट को बंद रखा जाए ताकि बच्चे सड़क पर न जाने पाए। इस अवसर पर उन्होंने दीक्षा एप के बारे में जानकारी करने पर बताया गया कि केवल एक अध्यापक सिंटू यादव को इसके बारे में जानकारी है जिस पर जिलाधिकारी ने सभी अध्यापकों को जानकारी देने का निर्देश दिया।