ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
मिर्जापुर :: अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा ने महापुरुष महाराणा प्रताप की आदमकद प्रतिमा एवं सड़क नामकरण की मांग को लेकर किया प्रदर्शन
December 10, 2019 • aaditya prakash srivastava • राजनीति

अन्नपूर्णा श्रीवास्तव, कुशीनगर केसरी, मिर्जापुर। अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा की ओर से मिर्ज़ापुर के किसी भी एक चौराहे पर राजपूत समाज के नायक महापुरुष महाराणा प्रताप की आदमकद प्रतिमा एवं सड़क नामकरण की मांग को लेकर जिला मुख्यालय मिर्ज़ापुर पर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के पूर्व अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के प्रदेश उपाध्यक्ष ठाकुर प्रिन्स सिंह के नेतृत्व में सैकड़ों पदाधिकारियों एवं क्षत्रिय समाज के साथ यह मांग लेकर प्रतिनिधिमंडल जिलाधिकारी मिर्ज़ापुर से मिला तथा उन्हें ज्ञापन पत्र सौंपकर तत्काल महाराणा प्रताप की प्रतिमा एवं सड़क नामकरण की मांग दोहराई।

प्रदर्शन को संबोधित करते हुए प्रदेश उपाध्यक्ष प्रिंस सिंह ने कहा मिर्ज़ापुर के कुछ जनप्रतिनिधि मिर्ज़ापुर में क्षत्रिय समाज को अपमानित करने का षडयंत्र रच रहे हैं। क्षत्रिय समाज के महापुरुषों के त्याग बलिदान शौर्य वीरता से आने वाली पीढ़ियों को दूर रखने के लिए साजिश के तहत क्षत्रिय समाज के महापुरुषों को सम्मान ना देकर अनादर करने का प्रयास किया जा रहा है। जिसे अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा कदापि बर्दाश्त नहीं करेगा।

प्रदर्शन को संबोधित करते हुए महासभा के प्रदेश उपाध्यक्ष ठाकुर प्रिंस सिंह ने कहा कि मिर्ज़ापुर जनपद में जब तक एक चौराहे पर महाराणा प्रताप की प्रतिमा एवं सड़क नामकरण नहीं होगा तब तक क्षत्रिय महासभा अपना आंदोलन चलाता रहेगा। प्रदर्शन को संबोधित करते हुए क्षत्रिय महासभा के जिला अध्यक्ष ठाकुर विक्रम सिंह ने कहा कि क्षत्रिय समाज के मान सम्मान के साथ खिलवाड़ कदापि बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। भारत के इतिहास में क्षत्रिय समाज के वीरता, शौर्य, साहस, एवं त्याग की अनेक मिसाले हैं। सरकारें क्षत्रिय समाज के महापुरुषों के बलिदान को अनदेखी करके नहीं चल सकती हैं। अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा, क्षत्रिय समाज के सम्मान के लिए किसी हद तक संघर्ष के लिए तैयार है। प्रदर्शन में प्रमुख रूप से श्याम सिंह, सरिता सिंह, विनय सिंह, शुभम सिंह, मनीष सिंह विवेक सिंह, अनुपम सिंह, अखिलेश सिंह, धर्मेन्द्र सिंह, सूरज सिंह, अभयप्रताप सिंह, राजीव सिंह, विपिन सिंह, दीपेंद्र सिंह, रघुवर सिंह, प्रदीप सिंह आदि सैकड़ों प्रमुख लोग सम्मिलित रहे।