ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
कुशीनगर :: सीएएए के समर्थन में भारतीय जनता पार्टी ने किया शांति मार्च, प्रदेश महामंत्री सांसद विधायक गण के साथ शामिल हुए पार्टी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता
January 10, 2020 • aaditya prakash srivastava • राजनीति

आदित्य प्रकाश श्रीवास्तव, पडरौना, कुशीनगर। पडरौना स्थित जूनियर हाई स्कूल के प्रांगण में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री पंकज सिंह, सांसद कुशीनगर विजय कुमार दुबे, जिला अध्यक्ष प्रेमचंद्र मिश्र एवं विधायक कुशीनगर रजनीकांत मणि त्रिपाठी, खड्डा जटाशंकर त्रिपाठी, हाटा पवन केडिया एवं फाजिलनगर गंगा सिंह कुशवाहा, दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री राजेश्वर सिंह एवं लालबाबू बाल्मीकि की उपस्थिति में पार्टी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित हुए। नगर पालिका चेयरमैन विनय जायसवाल, वरिष्ठ भाजपा नेता श्याम मुरली, मनोहर मिश्र आरके मौर्य, पूर्व विधायक मदन गोविंदराव, दीप लाल भारती, पूर्व जिलाध्यक्ष जगदंबा सिंह, लल्लन मिश्र, महामंत्री मार्कंडेय शाही, जिला मंत्री संजीव दिक्षित, भाजपा नेेता बंका सिंह, सदाशिव मणि त्रिपाठी सहित विभिन्न मंडलों के अध्यक्ष उपाध्यक्ष मंत्री एवं जिलाध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा चंद्रप्रभा पांडेय सहित अन्य पार्टी पदाधिकारियों सहित भारी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता उपस्थित रहे।बता दें कि जूनियर हाई स्कूल के प्रांगण से शांति मार्च प्रारंभ हुआ जो नगर के तिलक चौक सेंट्रल बैंक रोड होते हुए धर्मशाला बाजार से लेकर सुभाष चौक तक चला जहां मार्च एक सभा में बदल गई।जिसे प्रदेश महामंत्री पंकज सिंह, सांसद कुशीनगर विजय दुबे सहित सभी विधायक गण एवं पार्टी पदाधिकारियों ने संबोधित किया और आमजन का आह्वान किया कि वह सीएए के संदर्भ में फैलाई जा रही अफवाहों भ्रांतियों से दूर रहें तथा इसकी हकीकत को समझें। यह भारत में रहने वाले हर भारतीय के जिम्मेदारी हैं कि वह राष्ट्रहित में सोचे और विघटनकारी तत्वों के मंसूबे को फलीभूत ना होने दें। विभिन्न वक्ताओं ने अपने संदेश में अल्पसंख्यकों को आश्वस्त करते हुए कहा कि यह देश सबका है और किसी भी भारतीय नागरिक चाहे वह किसी भी धर्म संप्रदाय जाति का हो बिना किसी भेदभाव के वह इस देश में अपने मूल्यों और मान्यताओं के साथ रहने के लिए स्वतंत्र है और किसी भी प्रकार उसके हक में कोई बाधा नहीं आएगी। यह कानून पाकिस्तान बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक आधार पर सताए गए लोगों के लिए है जो वह देश छोड़कर इस देश में निवास करना चाहते हैं। ऐसे में हम सभी को आपसी सौहार्द प्रेम और भाईचारा बनाए रखते हुए देश की प्रगति में बराबर का योगदान देना चाहिए।