ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
कुशीनगर :: दागी दरोगा को बचाने में कब तक जुटें रहेगें अफसर रिश्वत के मामले में वायरल आडियो से
January 16, 2020 • aaditya prakash srivastava • अपराध

डेस्क, कुशीनगर केसरी, कुशीनगर। रिश्वत को लेकर वायरल हुए एक चौकी प्रभारी का ऑडियो में साफ साफ सुनाई दे रहा हैं कि दरोगा भ्रष्टाचार को परवान चढ़ाने में लगें हुये हैं।इसकी जानकारी अधिकारियों को होने के बाद भी कार्रवाई करने से परहेज कर रहे हैं। जिससे प्रदेश सरकार की नीतियों पर पानी फेरने से कहीं भी कोताही नहीं बरती जा रही हैं ।अगर ऐसे ही भाजपा सरकार के मंसूबे पर यह लोग पानी फेरते रहे तो प्रदेश सरकार का भ्रष्टाचार मुक्त बनाने का नारे पर विराम लग जायेगा।

मालूम हो कि कुछ दिन पहले पडरौना कोतवाली के सिधुआ चौकी प्रभारी का ऑडियो वायरल हुआ जिसमें प्रभारी द्वारा आरोपी से बात की जा रही है, जिसमें साफ सुनाई दे रहा है कि आरोपी बार-बार ₹139000 की धनराशि देने की बात कह रहा है और यह भी आरोपी कह रहा हैं कि रुपया हम देंगे और नाम दूसरे का निकालेगें इस ऑडियो में 164 का बयान का जिक्र आ रहा है जिससे यह मामला महिला से जुड़ी हुई है, वही दरोगा आरोपी को अपने लहजे में धमकी दे रहे हैं कि तुम बे अंदाज हो गए हो उनका आक्रोशित भाषा बता रही है कि वह रुपए का नाम सुनते ही आग बबूला होकर बात करते ऑडियो में साफ सुना जा सकता है, लेकिन दरोगा द्वारा ऑडियो में एक बार भी रुपया नहीं लेने से इंकार नहीं कर रहे हैं। जिससे जाहिर होता है कि इस खेल में दरोगा की संलिप्ता साफ तौर पर है। ऑडियो वायरल होने के बाद तमाम समाचार पत्रों ने इसे प्रकाशित किया तथा इस मामले को पुलिस विभाग के आला अधिकारियों तक पहुंचाया लेकिन इस दागी दरोगा पर अभी तक कार्रवाई नहीं होना अपने आप में सवाल खड़ा करता है कि आखिर क्यों दरोगा पर कारवाही सुनिश्चित नहीं की जा रही है। इसके पीछे कौन सा कारण मौजूद है। जबकि वायरल आडियों के संदर्भ में अधिकारी यह कहने से परहेज नहीं कर पा रहे हैं कि दरोगा द्वारा रूपया मांगने की बात नहीं सुनाई दे रही है। आखिर सवाल यह खड़ा होता है कि दरोगा पर आरोपी द्वारा पहले ही ₹139000 की रकम देने की बात की जा रही है तो दरोगा क्यों रुपए का मांग करेंगे ।ऑडियो में दरोगा द्वारा अधिकारियों की सहमति होने होने की बात कही जा रही है। अब देखना यह है कि इस दरोगा पर पुलिस प्रशासन कार्रवाई करता है कि नहीं।