ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
कुशीनगर :: अनुसूचित जाति के देवकली ने जमीन पर जबरन कब्जा करने को लेकर एसपी को प्रार्थना पत्र देकर किया कार्यवाही की मांग फिर भी नहीं हुई कार्यवाही, आज भी न्याय के लिए दर-दर भटक रही है देवकली
April 13, 2020 • aaditya prakash srivastava • अपराध

आदित्य प्रकाश श्रीवास्तव, कुशीनगर केसरी/केके न्यूज 24, कुशीनगर(१३ अप्रैल)। पुलिस अधीक्षक को प्रार्थना दे कर विपक्षी द्वारा जबरन जमीन को कब्जा कर लेने व जानमाल की धमकी देने को लेकर कार्यवाही की मांग की गई लेकिन विपक्षी पर कोई असर नहीं पड़ा। कोर्ट में वाद भी दाखिल है फिर भी विपक्षी जबरन जमीन को कब्जा करने मेे लागा है। न्याय नहीं मिलने से देवकली दर-दर भटकते हुए न्याय की गुहार लगा रही है फिर नहीं मिल रहा है न्याय।बताते चलें कि देवकली पत्नी दहारी नाहर छपरा थाना कोतवाली पडरौना कुशीनगर ने पुलिस अधीक्षक को प्रार्थना देकर के कहा कि उनकी मांं मुनरी पत्नी चौकट ने रजिस्टर्ड वसियत करके अपने चल अचल संपत्ति का संपूर्ण मालिकाना हक मुझे दिया है। वहींं मुनेब चौहान पुत्र चांनबली निवासी खेसिया थाना जटहां बाजार द्वारा मेरे जमीन पर जबरन कब्जा कर लिया गया है और मना करने पर जानमाल की धमकी भी दे रहा है। देवकली ने अपने प्रार्थना पत्र में कहा कि मुनेब चौहान से तंग आकर के न्यायालय सिविल जज (जूनियर डिविजन) में देवकली बनाम मुनेब का वाद भी दाखिल है जो जरिए कार्यवाही में है।अब सवाल यह उठता है कि एक अनुसूचित की जमीन को न्यायालय में वाद जेरे कार्यवाही में हो को दूसरे के द्वारा जबरन कर लेना कब्जा कर लेना कहां का न्याय है। देवकली के पति दहारी ने बताया कि मुनेब द्वारा जबरन का निर्माण करा कर झोपड़ी डालकर के मेरे जमीन को जबरन कब्जा किया जा रहा है जब हम ने मना किया तो पूरे परिवार सहित जानमाल की धमकी देते हुए मुनेब द्वारा कहा गया कि मेरा कुछ नहीं होगा सबको देख लूंगा। एक तरफ सरकार गरीबों को हर संभव मदद करने के लिए एडवाइजरी जारी कर रही है वहीं दूसरी तरफ दबंग लोगों द्वारा इन गरीबों को सताने का कार्य किया जा रहा है। वहीं कुछ ग्रामीणों ने नाम न छापने केे आश्वासन पर बताया कि जमीन देवकली का हैै और मुनेेब द्वारा जबरन कब्जा किया जा रहा है।