ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
छपरा  :: आंगनबाड़ी केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं की हुयी गोदभराई रस्म
February 8, 2020 • aaditya prakash srivastava • सामान्य

विजय कुमार शर्मा, बिहार, छपरा। जिले के प्रत्येक आंगनबाड़ी केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं और शिशुओं के बेहतर स्वास्थ्य बढ़ावा देने के लिए गोदभराई रस्म का आयोजन किया गया। परंपरा के अनुसार गर्भवती महिलाओं की गोद में फल, नारियल व लड्डू आदि भर कर रस्म अदा की गई। गर्भवती महिलाओं को पौष्टिक आहार दिए गए। गर्भवती महिलाओं, किशोरियों व छोटे बच्चों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया। इस दौरान गर्भवती माताओं को गर्भावस्था के समय उचित खानपान एवं प्रसव के बाद पोषक आहार के बारे में बताया गया। महिलाओं को हरी पत्तेदार सब्जियों, रेशेदार भोजन में शामिल करने की सलाह दी गयी. विशेष रूप से एनीमिया की चर्चा करते हुए महिलाओं को आयरन की गोली खाने को प्रेरित किया गया। इस दौरान महिला के साथ साथ पुरूष को भी गर्ववती महिला का ख्याल रखने के लिए प्रेरित किया गया।
सदर शहरी क्षेत्र के सीडीपीओ कुमारी उर्वशी के द्वारा महिलाओं को गर्भावस्था में लेने वाले पोषण तत्वों के बारे में विस्तृत जानकारियां दी गई। उन्होंने कहा कि पौस्टिक आहार लेने से ना सिर्फ महिलाएं स्वस्थ रहती हैं। बल्कि बच्चे का भी सर्वांगीण विकास होता है। पौष्टिक आहार के अभाव में महिलाएं विभिन्न प्रकार की बीमारियों से ग्रसित हो जाती हैं। जिसके चलते उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
आईसीडीएस के डीपीओ वंदना पांडेय ने बताया गर्भवती महिला उनके साथ आए रिश्तेदारों को सुरक्षित प्रसव के लिए बरती जाने वाली सावधानियां और सुरक्षित प्रसव अस्पताल में कराने के बारे में जानकारी देकर जागरूक किया गया। इसके साथ ही उन्हें बताया गया कि जन्म से तुरंत बाद पहला दूध शिशु को उसकी मां का पिलाए घुटी नहीं दें। बच्चे को 6 माह तक मां का दूध ही पिलाएं। 6 माह के बाद ही बच्चों को अनुपूरक आहार देना है। 6 माह के बाद भी बाहरी पूरक आहार देने के बाद भी मां का दूध बंद नहीं करना है और कम से कम दो साल तक मां का दूध आवश्यक रूप से मिलना चाहिए। अगर 2 साल के बाद भी बच्चा दूध पीता है और मां को दूध हो रहा है तो बच्चों को मां का दूध नहीं बंद करना चाहिए।ब्रहम्पुर स्थित आंगनबाड़ी केंद्र संख्या- 8 के सेविका नीशा पाठक ने बताया सरकार की इस योजना के तहत आंगनबाड़ी केंद्र पर गर्भवती महिला की गोदभराई के लिए सभी रीति-रिवाज तहत किया गया। ताकि महिला को घर जैसा माहौल मिलें। गोद भराई कार्यक्रम से बेटी बचाओ का संदेश भी दिया गया। आसपास के गली मोहल्ले की बुजुर्ग महिलाओं ने स्वागत मंगलगीत गाया। आंगनबाड़ी केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं की गोद भराई और 6 माह के शिशु के अन्नप्रशान की रस्में अदा की गयी। गर्भवती महिलाओं को आंगनबाड़ी केंद्र पर बुलाकर उसको डलिया भेंट सामग्री भेंट किया गया। परंपरा के मुताबिक मौसमी फल, नारियल, अंकुरित अनाज, गुड़, भूना चना भरा गया।