ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेतिया(पश्चिम चंपारण) :: महिला चिकित्सक व उनके कर्मी द्वारा पत्रकार के साथ किया गया दुर्व्यवहार, संघ से पत्रकार ने की विधि सम्मत कार्यवाही की लगाई गुहार
May 10, 2020 • aaditya prakash srivastava • अपराध

शहाबुद्दीन अहमद, कुशीनगर केसरी/केके न्यूज24, बेतिया(पश्चिम चंपारण), बिहार। पश्चिम चंपारण जिला के,सिकटा थाना क्षेत्र के कुर्सी बरवा गांव निवासी ,पत्रकार राजन कुमार ने जिला पत्रकार संघ पश्चिम चंपारण के अध्यक्ष को आवेदन प्रेषित कर महिला चिकित्सक पूनम सिन्हा व उनके कर्मी द्वारा दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाते हुए विधि सम्मत करवाई की मांग की है।

पत्रकार राजन ने दिये गये आवेदन में कहा है कि मैं दैनिक अखबार के लिए संवाद प्रेषण का कार्य करता है। मैं दिनांक 08.05.2020 को समय करीब 7 बजे अपनी पत्नी के इजाल के लिए बेतिया के महिला चिकित्सक डा.पूनम सिन्हा के निजी क्लिनिक पहुँचा, जहाँ चिकित्सक के गार्ड व स्टाफ के निर्देशानुसार चिकित्सक का फीस तीन सौ रूपया जमा कर दिया। क्लिनिक के स्टाफ द्वारा बताया कि डाक्टर 12 बजे दिन में बैठेगी। पुनः मैं अपनी पत्नी के साथ 11ः30 बजे डाॅक्टर के क्लिनिक पर पहुंँचा, लेकिन मेरे मरीज का नम्बर 3 बजे तक नही आया, तो कर्मियों से पुछने पर क्रोधित होकर बक-झक करने लगे। ऐसा करने पर मना करने पर महिला चिकित्सक डाॅ. पूनम सिन्हा बाहर आ कर आदेश दी की इसको मार-पीटकर भगा दो। इतना सुनते ही क्लिनिक के गार्ड व कम्पाउडर सुरेश कुमार, आकाश कुमार, योगेश्वर प्रसाद समेत डाॅ. मौनीष कुमार टूट पडे तथा मुझे अनुसूचित जाति का जान व समझ कर भद्दी-भद्दी गाली देते हुए मेरे मरीज का पुर्जा भी छिन लिये और लपड-थप्पड से मार कर भगा दिये तथा डा.मनीष सिन्हा ने जान मारने की खुलेआम धमकी भी दी। वही इस आवेदन पर संज्ञान लेते हुए पश्चिम चंपारण जिला पत्रकार संघ के अध्यक्ष, मृन्तुजय दूबे ने बताया कि इसकी एक प्रति जिला पदाधिकारी ,पश्चिम चम्पारण एवं पुलिस कप्तान, पश्चिम चंपारण,निताशा गुड़िया को भी दिया गया है।
विश्वस्त सूत्रों से पता चला है कि पत्रकार राजन कुमार ने अनुसूचित जाति- अनुसूचित जनजाति थाना में भी प्राथमिकी दर्ज करने के लिए आवेदन दिया है। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि महिला चिकित्सक एवं उनके चिकित्सक पुत्र के द्वारा पत्रकार के साथ जो अभद्र व्यवहार किया गया है ,वह इसलिए कि महिला चिकित्सक एवं उनके चिकित्सक पुत्र के द्वारा यह भी कहा गया कि मैं सिविल सर्जन का पुत्र हूं, और मेरी मां सिविल सर्जन की पत्नी है, तुम क्या बिगाड़ लोगे। तुम्हारी हसियत बता देंगे, यह कहते हुए महिला चिकित्सक और उनके चिकित्सक पुत्र ने पत्रकार के साथ अभद्र व्यवहार भी किया।