ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेतिया(प.चं.) :: सीएए, एनआरसी एवं एनपीआर ऐसे कानून के विरोध के लिए सड़क पर महिला व पुरुष सहित बच्चे धरना प्रदर्शन के लिए उतरे
January 29, 2020 • aaditya prakash srivastava • राजनीति

बेतिया(प.चं.) :: नागरिकता संशोधन कानून के विरोध को ले नगर के विभिन्न जगहों छावनी मस्जिद, सर्वोदय विद्यालय के पास धरना प्रदर्शन हेतु महिला, पुरुष बच्चे सहित नगर के आम आवाम इस कानून के विरोध में आज सड़क पर उतरे। इन आम आवाम का कहना है कि यह कानून एक काला कानून है, जो हमारी अपनी नागरिकता को हमसे छीन रही है, और जब तक यह कानून हटेगी नहीं तब तक हमारी लड़ाई यूं ही चलती रहेगी। मोदी व अमित शाह इस देश को बरगलाने का काम कर रहे हैं। इनकी यह राजनीति अब देश की जनता समझ चुकी है इन्हें यह कानून बदलना होगा। वहीं इस प्रर्दशन एन आर सी, सी ए ए एवं एनपीआर के विरोध में रामनगर क्षेत्र के देवराज सबेया काफी संख्या की तादात में सभी समुदाय के लोग उपस्थित हो अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन में शामिल हुए। जहां इस धरना प्रदर्शन के मंच संचालन अफसर एमाम एवं मुख्य अतिथी बिनय बर्मा, कांग्रेस विधायक नरकटियागंज एवं अध्यक्ष अनवारुल हसन द्वारा मंच की अध्यक्षता की गई। वहीं इस धरना प्रदर्शन में मंच पर उपस्थित अबू मोहसिन, गुल मुखिया, अशरफ मुखिया, शकील मुखिया, ओमप्रकाश क्रांति, रेयासत हुसैन, जावेद मुखिया, इम्तियाज मुखिया, मोहम्मद शाहनवाज, गुलफराज अहमद, वसीम अकरम, सहित हजारों की संख्या में इस धरना प्रदर्शन को ले लोग वहां उपस्थित हुए। जिले में चल रहे विभिन्न सार्वजनिक स्थानों समाहरणालय गेट चौक चौराहों मुहल्ले टोलों में होने वाले धरना प्रदर्शन जोशी एएनआरसी और एनपीआर के विरोध में महिलाओं पुरुषों के द्वारा किया जा रहा है इस संबंध में विरोध स्वरूप सभी को एक ही मांग है कि भाजपा शासित केंद्र सरकार एन आर सी सी ए एन टी आर को अविलंब वापस ले ताकि इस काले कानून से होने वाले दुष्प्रभाव से लोगों को बचाया जा सके और अपनी नागरिकता की हिफाजत हो सके इस संबंध में कई सामाजिक संगठनों के द्वारा माननीय उच्चतम न्यायालय में इस काले कानून को हटाने के लिए आवेदन दिया गया है ताकि माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद भाजपा शासित केंद्र सरकार इस काले कानून को संविधान की सुरक्षा करते हुए जल्द से जल्द वापस ले ले।