ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेतिया(प.चं.) :: राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के तत्वाधान में समझो समझाओं देश बचाओ कार्यक्रम का आयोजन
December 27, 2019 • aaditya prakash srivastava • राजनीति

शहाबुद्दीन अहमद, कुशीनगर केसरी, बेतिया(प.चं.), बिहार। बेतिया नगर के महाराजा पुस्तकालय के परिसर में 26 दिसंबर 2019 की संध्या समय 5:00 बजे से राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के तत्वाधान में समझो समझाओ देश बचाओ कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम की शुरुआत जगदीशपुर से प्रारंभ कर बेतिया के महाराजा पुस्तकालय के परिसर में समाप्त की गई। वही इस कार्यक्रम में ठंड ऐसे मौसम में भी काफी संख्या में लोग की उपस्थिति देखने को मिली। इस कार्यक्रम में पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं में रामा शंकर प्रसाद कुशवाहा (जिला अध्यक्ष), राजेश यादव (राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष), सुभाष सिंह कुशवाहा (किसान प्रकोष्ठ के अध्यक्ष), शैलेश कुशवाहा (प्रदेश सचिव, सह पूर्व नौतन विधानसभा प्रत्याशी) बृजेश कुमार कुशवाहा (पूर्व लोकसभा प्रत्याशी) नंदकिशोर प्रसाद कुशवाहा (राष्ट्रीय सचिव, सह नौतन विधानसभा पूर्व प्रत्याशी), नत्थू यादव आदि पार्टी के कार्यकर्ता उपस्थित हुए। इस कार्यक्रम के मंच संचालन को कर रहे शैलेश कुशवाहा रालोसपा पार्टी के प्रदेश सचिव द्वारा कार्यक्रम को आयोजित किया गया। वहीं इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मंत्री (बिहार) उपेंद्र कुशवाहा द्वारा कार्यक्रम की शुरुआत की गई। कार्यक्रम के प्रारंभ में मुख्य अतिथि के स्वागत में स्वागत गान प्रस्तुत की गई।

मुख्य अतिथि द्वारा इस कार्यक्रम के मुख्य बिंदु समझो समझाओ और देश बचाओ पर काफी सारी बातों पर प्रकाश डाला गया। उन्होंने कहा जिन को नागरिकता संशोधन की जानकारी नहीं है वह भी इस संशोधन बिल के बारे में बिना जाने आंदोलन करने सड़क पर उतर आ रहे हैं और भड़काऊ बातें कर रहे हैं जिससे हिंसा फैल रही है, सबसे पहले इस बिल के बारे में जाने आखिर यह एनआरसी, एनपीआर या सीएबी (कैब) बिल है क्या? यह कोई हिंदू, मुस्लिम का मामला नहीं। यह एक नागरिकता देने का मामला है, जहां मोदी जी एवं अमित शाह द्वारा लाखों लोगों को नागरिकता देने की बात कहा गया है, यहां तो केंद्रीय विद्यालय खोलने की जगह नहीं है, और इनके द्वारा लाखों लोगों को नागरिकता दी जाएगी, यह सिर्फ बरगलाने का काम कर रहे हैं। यहां गरीबों की हक मारी की जा रही है, यहां गरीबों का हक मारा जा रहा है। जो अति पिछड़ी, पिछड़ी, महा दलित, दलित समुदाय, सहित अल्पसंख्यक के हक को मारा जा रहा है। जो एक काला कानून है, गरीबों का नुकसान करने वाला कानून है। नीतीश कुमार चाहते तो यह कानून नहीं बनने वाला था, इस कानून में उनकी पूर्ण भागीदारी है। हमारे यहां के लोग को नौकरी ना देकर बाहर से आए लोगों को नागरिकता देने और नौकरी देना यह कहां का न्याय है। जिन लोगों से कागज एवं प्रमाण पत्र मांगा जाएगा, उन कागजों में जन्म प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र, किस स्कूल में पढ़ते हैं इन सब का प्रमाण पत्र लिया जाएगा, सर्टिफिकेट लिया जाएगा, तब नागरिकता दिया जाएगा। गरीब दर्जे के लोग अपने जमीन के कागज कहां से लाएंगे इन सब बातों को नहीं सोच पा रहे हैं। इन्हें जिन बातों का मुद्दा होना चाहिए वह तो नहीं कर पा रहे हैं शिक्षा सुधार, नौजवानों को रोजगार, स्वास्थ्य सुधार, सिंचाई व्यवस्था, महंगाई रोक थाम आदि व्यवस्था सुदृढ़ नहीं हो पा रही है। परंतु आजकल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक यात्रा पर निकले हुए हैं और यात्रा पर निकल लोगों के बीच क्या क्या बोलते हैं जल जीवन हरियाली लाएंगे, मैं कहना चाहता हूं गांव के बीच सही तरह से शिक्षा साधन की व्यवस्था और ना ही सही ढंग से विकास साधनों का निर्वाहन कर रहे हैं, तो हरियाली कहां से लाएंगे। यह सभी काम बरगलाने का काम इनके द्वारा हो रहा है। इन सभी बातों को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा की गई एवं अंत में कार्यक्रम के समापन में राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा विभिन्न नारों के साथ इस कार्यक्रम का समापन किया। उन नारों में उन्होंने कहा गरीबों के हक मारी हम नहीं होने देंगे, नौजवानों की हक मारी हम नहीं होने देंगे, वहीं पार्टी के सदस्यों के साथ आए लोगों ने भी इनके नारों के साथ अपनी नारे साथ साथ में बोली हम नहीं होने देंगे, हम नहीं होने देंगे।