ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेतिया(प.चं.) :: राष्ट्रीय जन संघर्ष पार्टी ने नागरिकता संशोधन बिल को लेकर किया प्रेस वार्ता
December 20, 2019 • aaditya prakash srivastava • राजनीति
 

शहाबुद्दीन अहमद, कुशीनगर केसरी, बेतिया, बिहार।नगर के मनुआपुल रोड स्थित निजी विवाह भवन में राष्ट्रीय जन संघर्ष पार्टी के सदस्यों के द्वारा नागरिकता संशोधन बिल को ले दिनांक 19 दिसंबर 2019 को प्रेस वार्ता करते हुए इस पार्टी के महासचिव पूर्णमासी राम एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष गुलरेज होदा द्वारा यह कहा गया कि कैब एवं एनआरसी नागरिकता संशोधन का एक काला कानून है। संविधान तोड़ने की कोशिश में देश को नागरिकता का धर्म से संबंध जोड़ा जा रहा है एवं स्वतंत्रता संग्राम के विरोध में यह संशोधन विरोध में किया जा रहा है। जो हमारे हिंदुस्तान में कभी नहीं हुआ है। 1947 में जो देश विभाजन हुआ था उस समय में भी हिंदुस्तान के जो नेता थे उन लोगों ने भी कहा था कि हमारे यहां विभिन्न प्रकार के लोग रहते हैं अलग-अलग धर्म के लोग रहते हैं और हम लोगों का जो देश बनेगा उस देश में सभी धर्मों के लोग का हम स्वागत करेंगे। तो यह केवल तीन देशों में ही क्यों यह किया जा रहा है, श्रीलंका, तिब्बत, वर्मा, नेपाल के समुदाय को छोड़कर एनआरसी एवं कैब को एक साथ नहीं देखा जा सकता है। गरीब तबके के लोग सभी समुदाय के जिनके पास कागजात नहीं है कि वह अपने एनआरसी के प्रति कोई कागज दिखा सके या इन लोगों के द्वारा यह चर्चा में नहीं कहा जा रहा है कि आखिर कौन से कागजात एनआरसी के लिए कागजातों को देनी होगी, इन सब बातों पर चर्चा नहीं हो रही है। इनको अगर मुद्दा बनाना है तो बेरोजगारी, महंगाई, शिक्षा, जनसंख्या आदि पर मुद्दा उठाएं। जो आर्थिक स्थितियों को घटाते आ रही है। इन चीजों पर विचार नहीं किया जा रहा है,जब से नोटबंदी हुई है देश की आर्थिक स्थितियों को नहीं देखा जा रहा हैं। इन बढ़ती महंगाई के ऊपर देश के भावी अधिकारी, पदाधिकारी एवं राजनीतिक दल के साथ साथ देश के मंत्री गण को इन बढ़ती हुई महंगाई पर मुद्दा उठानी चाहिए, आर्थिक स्थितियों पर मुद्दा उठाने चाहिए यह हमारी विशेष मुद्दा है इनसे देश के विकास के स्तर को देखा जा सकता है। यह हमारी प्रथम प्राथमिकी मुद्दा होगी। इस मौके पर पार्टी के सदस्यों में सगीर अहमद, राधा कृष्ण, इरशाद अहमद (दुलारे), रुहुल अमीन खान (कोषाध्यक्ष), शेख मुन्ना, नूरुद्दीन, सुरेश, गोरख यादव आदि काफी संख्या में पार्टी के सदस्य मौजूद हुए।