ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेतिया(प.चं.) :: नम आंखों से वीर सैनिकों को छात्र-छात्राओं ने दी श्रद्धांजलि
February 15, 2020 • aaditya prakash srivastava • सामान्य

शहाबुद्दीन अहमद, बेतिया(प.चं.), बिहार। राष्ट्रीय एकता एवं सद्भावना का छात्र-छात्राओं ने लिया संकल्प। 14 फरवरी 2020 को शहीद स्मारक बेतिया पश्चिम चंपारण में 14 फरवरी 2019 को आतंकी विस्फोट में शहीद हुए सैनिकों के सम्मान में सर्वधर्म श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया ! इसमें सभी धर्मों के लोगों ने भाग लिया।

इस अवसर पर विभिन्न विद्यालयों के छात्र छात्राओं ने शहीद स्मारक में आयोजित होने वाली श्रद्धांजलि सभा में सम्मिलित होकर पुलवामा जम्मू कश्मीर में शहीद हुए वीर सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की ! इस दौरान शहीद स्मारक समिति, स्वच्छ भारत के ब्रांड एंबेसडर सह सचिव सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन डॉ एजाज अहमद अधिवक्ता के नेतृत्व में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों, बुद्धिजीवियों एवं छात्र छात्राओं ने 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित किया! इस अवसर पर राजकन्या बालिका मध्य विद्यालय की प्रधानाध्यापिका सुधा कुमारी ने कहा कि देश पर जान निछावर करने वाले वीर सैनिकों का बलिदान अतुल्य है! जिसे कभी भी भुलाया नहीं जा सकता ! इस अवसर पर सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन के सचिव सह ब्रांड एंबेसडर स्वच्छ भारत मिशन डॉ0 एजाज अहमद (अधिवक्ता) ने कहा कि मातृभूमि की रक्षा करने वाले हम वीर शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं! जब भी मातृभूमि की रक्षा की आवश्यकता पड़ी वीर सैनिकों ने अपने प्राणों की आहुति देखकर मातृभूमि की रक्षा की! इस अवसर पर अनुराग चतुर्वेदी ने कहा कि देश के युवा सैनिक के रूप में सब कुछ निछावर कर सीमा पर डरते हैं! यह मां भारती की रक्षा कर सकें! हम उन्हें नमन करते हैं! इस अवसर पर वरिष्ठ पर्यावरणविद सह गांधीवादी चिंतक अमित कुमार लोहिया, पश्चिम चंपारण कला मंच की संयोजक शाहीन परवीन, बिहार इतिहास विभाग के डॉ0शाहनवाज अली , स्वच्छ भारत मिशन के ब्रांड एंबेसडर डॉ नीरज गुप्ता एवं वरिष्ठ अधिवक्ता शंभू शरण शुक्ल ने कहा कि देश पर जान निछावर करने वाले सैनिकों स्वतंत्रता सेनानियों एवं शहीदों के सम्मान में बेतिया पश्चिम चंपारण में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक सह राष्ट्रीय युद्ध संग्रहालय का निर्माण होना चाहिए ताकि नई पीढ़ी अपने युवाओं का एक सैनिक के रूप में गौरवशाली इतिहास को जान सके! यही होगी इन सैनिको एवं शहीदों की प्रति सच्ची श्रद्धांजलि!