ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेतिया(प.चं.) :: कर्मचारी महासंघ गोप गुट के जिला कमिटी की विस्तारित बैठक अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ गोप गुट कार्यालय, बेतिया में हुआ समपन्न,  8 जनवरी को होगा आम हड़ताल, हजारों मजदूर उतरेंगे सड़कों पर
December 29, 2019 • aaditya prakash srivastava • राजनीति

शहाबुद्दीन अहमद, बेतिया(प.चं.), बिहार। सीएए/एनआरसी/एनपीआर के जरिये हमारे संविधान पर हमले के खिलाफ और आर्थिक मंदी के कारण लोगों की बढ़ती बदहाली के खिलाफ तथा केंद्र - राज्य सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों, 4 लेबर कोड बिल आदि के खिलाफ, मजदूरों की 12 सूत्री लम्बित मांगों की पूर्ति के लिए केंद्रीय ट्रेड यूनियनों व सेवा संघों द्वारा संयुक्त रूप से आहूत 8 जनवरी 2020 के देशव्यापी आम हड़ताल को सफल बनाने की योजनाओं पर विमर्श करने लिए ऑल इण्डिया सेंट्रल काउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियन्स (ऐक्टू)और अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ गोप गुट के जिला कमिटी की विस्तारित बैठक अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ गोप गुट कार्यालय, बेतिया में समपन्न हुई।

बैठक को संबोधित करते हुए ऐक्टू के संयोजक रविन्द्र कुमार रवि ने कहा कि सीएए न सिर्फ मुस्लिम विरोधी है बल्कि सांप्रदायिक और बाँटने वाला भी है। जबकि अखिल भारतीय एनआरसी मुस्लिमों और भारत के गरीबों और वंचितों समेत करोड़ों लोगों को नागरिकता से बेदखल करके उनके नागरिक अधिकारों को छीन लेगी। यह हर समुदाय के गरीब और हाशिए के लोगों को अधिकारविहीन करके उन्हें असुरक्षा के रसातल में फेंक देगी, और एनआरसी के पहले कदम के तौर पर केंद्रीय सरकार राष्ट्रीय पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) ला रही है। एनपीआर कोई सामान्य जनगणना भर नहीं है। ये नागरिकों को डाउटफुल या अवैध नागरिक घोषित करने की ओर बढ़ा पहला कदम है। वहीं हिन्दूस्तान के राजनीति में सेना प्रमुख विपिन रावत का हस्तक्षेप बढते जा रहा हैं जो भारतीय लोकतंत्र के लिए खतरा उत्पन्न हो गया है, काश्मीर से लेकर असम, उत्तर प्रदेश, दिल्ली सहित कई राज्यों को सेना के हवाले कर दिया गया है, देश को सैनिक शासन कि तरफ मोदी सरकार बढ़ चुकी हैं, संविधान और लोकतंत्र के लिए खतरा उतपन्न हो गया है, इस फासिस्ट मोदी सरकार को अखिल भारतीय हड़ताल सबक सिखायेगा, एक्टू जिला सह संयोजक जवाहर प्रसाद ने हड़ताल को शानदार रूप से सफल बनाने की अपील करते हुए कहा कि केंद्र-राज्य की सरकारों ने मजदूरों - गरीबों पर अधिकतम हमला बोल दिया है । मजदूर हित के श्रम कानूनों को खत्म कर मालिकों - औद्योगिक घरानों को फायदा पहुंचाने के लिए ...श्रम का मूल्य घटाने व बेकारी बढ़ाने वाला घातक 4 लेबर कोड लाया जा रहा है। उन्होंने बैठक में लिए गए प्रमुख निर्णयों की जानकारी देते हुए बताया कि हड़ताल की सफलता के लिए पश्चिम चम्पारण में व्यापक अभियान चलाया जाएगा। सह संयोजक जवाहर प्रसाद इस बैठक में बिहार आशा कार्यकर्ता संघ जिला अध्यक्ष सुमन देवी, जिला सचिव प्रतीमा देवी, जल संसाधन विभाग मौसमी कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष लालबाबु गिरी, इंद्रदेव यादव, बिहार निर्माण मजदूर संघ के नेता राजकुमार, छठीया देवी, बिहार रसोईया संघ के नेता सीताराम राम, खेत व मजदूर सभा के जिला नेता रिखी साह, स्वस्थ्य कर्मचारी संघ के नेता विजेंद्र दास, बेतिया राज कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष सुरेश राउत, पशुपालन विभाग कर्मचारी संघ जिला सचिव चन्द्र भूषण 5 जनवरी तक गांवों, बाजार -चट्टियों व मजदूर बस्तियों, चौक - चौराहों को केंद्र कर बैठक व सभाएं की जाएगी। 6 - 7 जनवरी को वाहन प्रचार किया जाएगा। मौके पर ऐक्टू के जिला स्तरीय नेतृत्वकारिय साथियों ने 8 जनवरी की हड़ताल के प्रचार - प्रसार के साथ साथ बड़ी संख्या में मजदूरों को आम हड़ताल में उतारने का संकल्प लिया। बैठक की अध्यक्षता बिहार राज्य अराजपत्रित महासंघ (गोपगुट) बेतिया नेता समभू सिंह ने किया। इस मौके पर अराजपत्रित महासंघ (गोपगुट)जिला सचिव राजकिशोर सिंह, राजेन्द्र पाठक, बलिष्टर दुवे, अशोक आदि मौजूद रहे।