ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेतिया(प.चं.) :: जिला परिवहन कार्यालय में 11:30 में लेट नहीं, पदाधिकारी कर्मी से भेंट नहीं
November 22, 2019 • aaditya prakash srivastava • अपराध

शहाबुद्दीन अहमद, कुुशीनगर केसरी, बेतिया पश्चिम चंपारण, बिहार। जिला परिवहन कार्यालय पश्चिम चंपारण में 11:30 में लेट नहीं, पदाधिकारी- कर्मी से भेंट नहीं की परिकल्पना चरितार्थ नजर आई। संवाददाता अचानक जिला परिवहन कार्यालय बेतिया में पहुंचा तो देखा कि कार्यालय के पदाधिकारी और कर्मी अपनी जगह पर उपस्थित नहीं थे। कई रूम में ताला बंद था, कार्यालय भवन का मुख्य द्वार खुला था। खिड़की संख्या 7-8 पर कर्मी मौजूद रहे। मगर खिड़की संख्या 9 के कर्मी अनुपस्थित रहे। दूूसरी मंजिल पर संचालित परिवहन कार्यालय में ताला लटका मिला।जिला परिवहन पदाधिकारी राकेश कुमार सिंह एवं एमबीआई, सुनील कुमार सहित प्रधान लिपिक संजय कुमार राव आवश्यक कार्य से पटना गए थे। जैसा कि अन्य कर्मी ने बताया एवं लिपिक गणेश कुमार साह के 11:30 बजे तक गायब रहने के कारण वहां वाहन मालिकों, चालकों , ड्राइविंग लाइसेंस लेने वालों, लर्निंग लाइसेंस लेने वालों, रजिस्ट्रेशन कराने वालों की लंबी कतार लगी हुई थी,साथ में अफरा-तफरी का माहौल था। इस संदर्भ में कार्यालय में उपस्थित निम्न वर्गीय लिपिक इम्रानुलहक ने संयुक्त रूप से बताया के दूरभाष पर पता चला है कि प्रधान लिपिक संजय कुमार पटना गए हैं और कार्यालय की चाबी गणेश कुमार साह के पास है जो अभी तक नहीं आए हैं। इतने में लिपिक चाबी लेकर 11:35 पर आए और कार्यालय को खोला, जिससे पदाधिकारी व कर्मी का विचार नहीं लिया जा सका। पदाधिकारियों व कर्मी से दूरभाष पर संपर्क करने पर तथा कोई जवाब नहीं मिल सका।
जिला परिवहन कार्यालय का यह धंधा बहुत दिनों से चला आ रहा है। जब पदाधिकारी नहीं रहते हैं तो कर्मियों का भी बांछें खिल जाती है और समय पर आना तो दूर फरार होने की स्थिति में रहते हैं, ऐसी स्थिति में वाहन मालिक, आम जनता, ड्राइविंग लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन, लर्निंग लाइसेंस, कागज जमा करने वाले इधर-उधर भटकते रहते हैं तथा मारपीट ,गाली-गलौज की स्थिति आ जाती है। जिला परिवहन कार्यालय बेतिया के पदाधिकारियों ,कर्मियों का प्रतिदिन गायब रहना नित्य दिन की प्रक्रिया बन गई है, मगर जिला प्रशासन देखने का नाम नहीं ले रहा है, जिससे कर्मी और पदाधिकारी का मनोबल बढ़ता जा रहा है और घूसखोरी का स्टैंडर्ड भी बढ़ता जा रहा है, बगैर सुविधा शुल्क दिए जिला- परिवहन कार्यालय में कोई काम नहीं हो रहा है, इससे आम जनता काफी परेशान है।