ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेतिया(प.चं.) :: ऐतिहासिक विजय दिवस 1971 की 48 वी वर्षगांठ पर पर सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन द्वारा भारतीय वीर सैनिकों को दी गई भावभीनी श्रद्धांजलि
December 17, 2019 • aaditya prakash srivastava • राजनीति

शहाबुद्दीन अहमद, कुशीनगर केसरी, बिहार, बेतिया(प.चं.)। १६ दिसंबर को ऐतिहासिक भारत-पाकिस्तान युद्ध 1971 की समाप्ति पर आयोजित होने वाले विजय दिवस पर सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन के सभागार सत्याग्रह भवन में एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया ! जिसमें विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों, बुद्धिजीवियों एवं छात्र छात्राओं ने भाग लिया! इस अवसर पर सर्वप्रथम भारत पाकिस्तान युद्ध 1971 की 48 वीं वर्षगांठ पर युद्ध में शहीद हुए सैनिकों के सम्मान में सर्व धर्म प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया! इसमें सभी धर्मों के लोगों ने भाग लिया!

इस दौरान पर अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरणविद एवं गांधीवादी चिंतक अमित लोहिया ने युद्ध में शहीद हुए भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए राष्ट्र के लिए वीर सैनिकों के दिए गए योगदान पर विस्तृत रूप से प्रकाश डाला! इस अवसर पर अंतरराष्ट्रीय पीस एंबेस्डर सह सचिव सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन डॉ0 एजाज अहमद (अधिवक्ता) ने कहा कि आज ही के दिन आज से 48 वर्ष पूर्व 3 दिसंबर 1971 को आरंभ हुआ भारत पाकिस्तान युद्ध नए राष्ट्र बांग्लादेश के उत्पत्ति के साथ लगभग 13 दिन चले युद्ध के साथ ही समाप्त हो गया था! इस युद्ध में पाकिस्तान के लगभग 93000 सैनिकों ने भारतीय सेना के समक्ष आत्मसमर्पण किया था !इस युद्ध में हमारे लगभग 3900 भारतीय वीर सैनिक शहीद हुए एवं लगभग 9851 सैनिक घायल हुए थे ! तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी एवं संयुक्त राष्ट्र संघ के हस्ताक्षेप से 93000 पाकिस्तानी सैनिकों को युद्ध बंदी से मुक्त करते हुए भारत ने अपनी सदियों पुरानी सभ्यताओं एवं आदर्शों को विश्व पटल पर जाहिर किया! इस अवसर पर बिहार विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग के डॉ0 शाहनवाज अली एवं स्वच्छ भारत मिशन के ब्रांड एंबेसडर डॉ नीरज गुप्ता ने कहा कि देश पर मर मिटने वाले सैनिकों एवं शहीदों के सम्मान में बेतिया पश्चिम चंपारण में युद्ध राष्ट्रीय स्मारक का निर्माण सह विश्वविद्यालय का निर्माण कराया जाए ताकि नई पीढ़ी अपने वीर सैनिकों के बलिदान और त्याग को जान सके !यही होगी सरकार की ओर से सच्ची श्रद्धांजलि !