ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेतिया (प.चं.) :: 21 मार्च को मील गेट एवं 25 मार्च को गन्ना बकाया मुल्य के भुगतान को लेकर विधान सभा पर धरना का कार्यक्रम : किसान महासभा
March 13, 2020 • aaditya prakash srivastava • राजनीति

शहाबुद्दीन अहमद, बेतिया (प.चं.), बिहार। गन्ना किसानों का बकाया भुगतान को लेकर मझवलिया पंचायत भवन में अखिल भारतीय किसान महासभा द्वारा किसान संमेलन का आयोजन किया गया।संमेलन को संबोधित करते हुए भाकपा माले केन्द्रीय कमिटी सदस्य विरेन्द्र गुप्ता ने कहा कि मझवलिया चीनी मिल द्वारा गन्ना किसानों के करोड़ों रुपये बकाया रखा है, गन्ना किसानों का बकाया राशि भुगतान नही कर रहा है, किसानों के करोड़ों करोड़ रुपये से चीनी मिल मालिक अपनी नीजी संपत्ति बनाने में लगा हुआ है, केन्द्र व राज्य सरकार किसानों के पक्ष में खड़ा होकर गन्ना किसानों के बकाया भुगतान करने के बदले गैर संविधानिक सीएए एनआरसी एनपीआर लाकर पुरे देश को तबाह करने का प्रोजेक्ट लाया है, मोदी सरकार सीएए एनआरसी एनपीआर के शोर में किसानों के तमाम सवाल को दरकिनार कर दिया है, यस बैंक लूटने वाले देश के देश के लुटेरों के बारे में माले नेता ने कहा कि अंबानी ग्रुप 13000 करोड़ रुपिया जो लूटा उसमें से 20 करोड़ रुपया भाजपा को चंदा दिया है ,वहीं सुभाष चंद्रा जो भाजपा के सांसद हैं, ₹33 करोड़ की लूट किया है उसमें से ₹40 करोड़ भाजपा को चंदा दिया है, संजय छवरिया 1200 करोड़ रुपया की लूट किया है, जिसमें से ₹50 लाख भाजपा को चंदा दिया, कपिल वाला 3750करोड की लुट में से 1950करोड भाजपा को चंदा दिया ,वहीँ वाधवानी 1200करोड कि लूट में से 10 करोड़ चंदा दिया है,इस तरह भाजपा पुरे देश को लुटने का काम कर रहीं हैं,किसान महासभा के नेता फुलदेव कुशवाहा ने कहा कि सरकार जितना भी किसानों के सवालों को दरकिनार करने की कोशिश करे, किसान अपने सवाल को लेकर चीनी मिलों से लेकर मोदी- नीतीश सरकार के खिलाफ संघर्ष कर जीत हासिल करेंगे, गन्ना के बकाया भुगतान को लेकर 21 मार्च को मझवलिया चीनी मिल गेट पर धरना दिया जाएगा, धरना के माध्यम से चीनी मिलों के मनमानी पर रोक लगाने से लेकर बकाया राशि के भुगतान को लेकर मील मालिक व सरकार पर दबाव बनेगा, इस मौके पर किसान नेता रीखी साह, जवाहर प्रसाद, धर्म कुशवाहा, सतनाम साह, हरिशंकर दुवे, अमित कुमार, भरत ठाकुर, महादेव राम, अनारूल हक आदि लोगों ने किसान संमेलन को संबोधित किया।