ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेतिया :: नर्सिंग होम और पैथोलॉजी सेंटर की जांच को लेकर टीम का किया गया गठन :: सिविल सर्जन
December 12, 2019 • aaditya prakash srivastava • राजनीति

शहाबुद्दीन अहमद, कुशीनगर केसरी, बेतिया, बिहार। जिले में अवैध रूप से संचालित हो रहे 79 जांच घर, एक्स-रे केंद्र पर ताला लगेगा ,संचालकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग की ओर सेकरवाई शुरू कर दी गई है, सिविल सर्जन ,डॉ अरुण कुमार सिन्हा ने संवाददाता को बताया कि चयनित किए गए जांच घर मानक के अनुरूप संचालित नहीं हो रहे हैं जो एक गंभीर मामला है, उन्होंने आगे बताया कि अवैध संचालित हो रहे नर्सिंग होम व पैथोलॉजी जांच के लिए टीम गठित कर दी गई है ,जिसमें, डॉ किरण शंकर झा, डॉ आर एस मुन्ना,डॉक्टर त्रियोगी नराएं सिंह, अवधेश कुमार सिंह को शामिल किया गया है ,टीम को जांच कर रिपोर्ट देने को कहा गई है ,उनके संचालकों के खिलाफ कार्रवाई की जा सकेगी।
जिले में चल रहे 79 अवैध जांच घर, एक्सरे को चिन्हित किया गया है, इसमें कलेक्शन सेंटर ऑफ लाल पैथ ,जनता पैक लिबर्टी ,श्री डायग्नोसिस ,रौनक पैथ लैब, रोशनी लेबर संजीवनी लेबल डिजिटल, एक्स-रे लैब, असिस्टेंट सिलेबस विकास, स्मृति लैब, श्री पारस डिजिटल, एक्सरे आदित्य लेबोरेटरी, ओम डायग्नोस्टिक सेंटर, अपना लैपटॉप, कुमार एक्ट,र दुर्गा जय, अंबे पैथ लैब ,जनता एक्सप्र पर मुस्कान, सजी लवली डायग्नोस्टिक सेंटर, विकास भारती, जांच विभाग,लवली डायग्नोस्टिक, अपोलो जांच घर, काजी हॉस्पिटल एंड जांच घर, बिरजा पैथोलॉजी ,पायल पैथोलॉजी अपोलो जांच घर लाल पैथ लैब ,आदर्श एक्सरे महावीर एक्सरे ,शिवम जांच घर ,विश्वास जांच घर, गुप्ता मेडिकल स्टोर, फतेहपुर जोगापट्टी, पैक जांच घर, सोनी जांच घर, बुद्धा जाच घर, दुर्गा जांच घर मुस्कान जांच भाग, चंपारण पैथोलॉजी संजीवनी जांच घर सुबोध कुमार जांच घर जनसेवा जांच घर, आदर्श जांच घर जनता एक्सरे जनता एक्सरे चांद तारा जांच घर नेशनल जांच घर शबीना जांच घर अमृत जांच घर यूनिक जांच आइडियल जांच घर सपना जांच घर अहमद यूनिक जनता जांच घर महादेव जांच घर दुर्गा जांच घर राय जांच घर, पॉपुलर जांच घर त्रिभुवन जांच घर रहमान जांच घर आदर्श जांच घर आदि अन्य जांच घर शामिल हैं।
जांच घरों का और एक्स-रे सेंटर का यासीन के द्वारा विधिवत जांच कब किया जाएगा तत्पश्चात मानक के अनुसार काम नहीं करने पर इन पर तालाबंदी की जाएगी।
अब देखना यह है कि जो जांच टीम गठित की गई है वह कितना जांच करने में मानक रूप काम कर पाती है या नहीं यह जांच टीम के द्वारा जांच प्रतिवेदन समर्पित करने के बाद ही पता चल पाएगा कि कौन सा जांच घर बंद होगा या खुला रखा जाएगा।