ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेेतिया(प.चं.) :: राष्ट्रीय महिला दिवस पर याद कर महान स्वतंत्रता सेनानी सरोजिनी नायडू को दी गई भावभीनी श्रद्धांजलि
February 13, 2020 • aaditya prakash srivastava • सामान्य

शहाबुद्दीन अहमद, बेेतिया(प.चं.), बिहार। आज 13 फरवरी 2020 को राष्ट्रीय महिला दिवस सह महान स्वतंत्रता सेनानी सरोजिनी नायडू की 141वी जन्मदिवस पर सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन के सभागार सत्याग्रह भवन में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया !जिसमें विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ,बुद्धिजीवियों एवं छात्र छात्राओं ने भाग लिया! इस अवसर पर सर्वप्रथम महान स्वतंत्रता सेनानी सरोजिनी नायडू को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके जीवन दर्शन पर पश्चिम चंपारण कला मंच की संयोजक शाहीन परवीन एवं वरिष्ठ पर्यावरणविद अमित लोहिया ने प्रकाश डाला !इस अवसर पर अंतरराष्ट्रीय पीस एंबेस्डर सह सचिव सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन डॉ एजाज अहमद (अधिवक्ता) ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में आज भी देश में महिलाओं की स्थिति संतोषजनक नहीं है उन्होंने देश की महिलाओं से आह्वान करते हुए कहा कि शिक्षा को हथियार बनाकर देश को विकसित राष्ट्र बनाने में हर संभव मदद करें देश की आधी आबादी !आज ही के दिन 13 फरवरी 1879 को महान स्वतंत्रता सेनानी सरोजिनी नायडू का जन्म हुआ था! उन्हीं के सम्मान में प्रत्येक वर्ष 13 फरवरी को राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है !1905 में बंगाल विभाजन के समय उन्होंने राष्ट्रीय आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई !महात्मा गांधी से पहली मुलाकात 1914 में सरोजिनी नायडू की लंदन में हुई थी! राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से प्रभावित होकर उन्होंने राष्ट्रीय आंदोलन में मुखर होकर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई !

बता दें कि 1919 में जलियांवाला बाग की घटना से वह इतनी आहत हुई कि उन्होंने 1908 में ब्रिटिश शासन द्वारा प्राप्त सम्मान केसर ए हिंद को वापस लौटा दिया था !1925 में कानपुर अधिवेशन में प्रथम भारतीय महिला अध्यक्ष कांग्रेस के अधिवेशन में चुने जाने का गौरव प्राप्त हुआ था! उन्होंने भारतीय नारियों में विश्वास जगाते हुए राष्ट्रीय आंदोलन को एक नई दिशा प्रदान की! उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के नेतृत्व में हजारों हजार महिलाओं का राष्ट्रीय आंदोलन में सहयोग दिया! हजारों हजार महिलाओं ने घर परिवार छोड़कर राष्ट्रीय आंदोलन एवं देश की स्वतंत्रता की राह चुना! इस अवसर पर वरिष्ठ अधिवक्ता शंभू शरण शुक्ल एवं बिहार विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग के डॉ0 शाहनवाज अली ने कहा कि उन्होंने भारतीय महिलाओं के बारे में एक बहुत ही बड़ी महत्वपूर्ण बात कही थी कि जब आपको अपना झंडा संभालने के लिए किसी की आवश्यकता हो तब भारतीय नारी आपके साथ सदैव खड़ी रहेगी!  जब तक आप अपना लक्ष्य प्राप्त नहीं कर लेते! इस अवसर पर स्वच्छ भारत मिशन के ब्रांड एंबेसडर डॉ नीरज गुप्ता ने कहा कि प्रत्येक वर्ष 13 फरवरी को महान स्वतंत्रता सेनानी सरोजिनी नायडू के जन्म दिवस को राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है !इस अवसर पर वक्ताओं ने महिलाओं से आह्वान करते हुए कहा कि शिक्षा को हथियार बनाकर देश की विकास की कड़ी बने देश की आधी आबादी ताकि भारत को एक शक्तिशाली, गौरवशाली विकसित राष्ट्र बन सके एवं समाज के बीच लंबी खाई को दूर की जा सके! इस अवसर पर वक्ताओं ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि संसद एवं देश के विधानसभाओं में महिलाओं को 33 फ़ीसदी आरक्षण जल्द से जल्द प्रदान की जाए ताकि देश की महिलाएं देश की विकास की कड़ी बन सके! बिहार देश का पहला राज्य है जहां महिलाओं के लिए सरकारी नौकरियों में 50% आरक्षण है !