ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बेेतिया(प.चं) :: ७० वर्षीय विधवा महिला को डायन बताकर मैला पिलाने व मारपीट कर घायल करने का मामला उजागर, मुुुकदमा दर्ज
November 4, 2019 • aaditya prakash srivastava • अपराध

शहाबुददीन अहमद, कुशीनगर केसरी, बेतिया पश्चिम चंपारण, बिहार। स्थानीय बैरिया थाना क्षेत्र के बलुआ रमपुरवा गांव में एक 70 वर्षीय विधवा को डायन बताकर पीटने का मामला प्रकाश में आया है इस मामले में पीड़ित विधवा महिला गंभीर रूप से घायल है। महिला का इलाज स्थानीय सरकारी अस्पताल में जारी है।

पुलिस को दिए अपने बयान में महिला ने बताया है कि वह अपने घर के छत पर बैठी थी, तभी हीरा चौधरी, सुनील चौधरी, लक्ष्मण यादव ,राम जी यादव ,रामचंद्र यादव ,मंटू लाल यादव ,सिकंदर यादव और बाबूलाल यादव आए और डायन बताकर पीटने लगे। अब मारपीट में महिला का बाया हाथ व पीठ जख्मी हो गया, इस बीच विधवा को बचाने आई उसकी बहू को भी सबने मिल कर पीटा उसके साथ बदसलूकी की और उसका मंगलसूत्र गले से निकालकर फरार हो गए। महिला को जख्मी हालत में पीएचसी में भर्ती कराया गया जहां चिकित्सकों ने मामले को गंभीरता को देखते हुए का स्थानीय सरकारी अस्पताल बेतिया रेफर कर दिया जहां महिला का इलाज जारी है। महिला की स्थिति अभी भी गंभीर बनी हुई है। मामले में मुुुकदमा दर्ज कर ली गई है। पुलिस मामले में छानबीन शुरू कर दी है। इसी गांव की एक दूसरी घटना में डायन बताकर महिला को मैला पिलाने का प्रयास किया गया है। इसको लेकर महिला के पति ने बैरिया थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है। पुलिस को दिए आवेदन में बताया गया है कि यह पति- पत्नी बैठे थे तभी शिव शंकर यादव ,गौरी शंकर यादव, अमरावती देवी, बृजेश यादव राजन यादव मुकेश यादव, निरंजन यादव ,जानकी देवी, अपने साथ महिला लेकर आए और उनकी पत्नी को जबरन पिलाने का प्रयास करने लगे, बचाने आए पति को भी लोगों ने जमकर पीटा ,पति ने दर्ज प्राथमिकी में मारपीट के दौरान घर से पेटी चोरी करने का आरोप लगाया है।

मिली जानकारी के अनुसार इसके पूर्व में भी इसी तरह की घटना इस थाना क्षेत्र में कई बार घट चुकी है, मगर पुलिस प्रशासन मूकदर्शक बनकर इस घटना में कोई सक्रिय भूमिका नहीं निभाती है ,जिससे इस तरह की घटना करने वालों को मनोबल बढ़ता जा रहा है और डायन का इल्जाम लगाकर इस तरह महिलाओं को पीटने, गाली- गलौज करने, हाथ पैर तोड़ने की घटना दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है जो समाज के लिए एक कलंक साबित हो रहा है, साथ ही मानवाधिकार का घोर उल्लंघन हो रहा है।