ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बगहा(प.चं.) :: सिकरहना नदी पर बना स्कू्रपाइप पुल की जर्जरता लोगों के लिए परेशानी का बना सबब
December 22, 2019 • aaditya prakash srivastava • राजनीति

विजय कुमार शर्मा, कुशीनगर केसरी, बगहा(प.चं.), बिहार। प्रखण्ड बगहा एक के हरपुर व बरिअरवा गांव के बीच सिकरहना नदी पर बना स्कू्रपाइप पुल की जर्जरता लोगों के लिए परेशानी का सबब बना। इस पुल पर चढ़ते हीं जितना तेज पुल हिलता है उससे कही ज्यादा पुल से गुजरने वाले गाड़ी चालको का कलेजा हिलने लगता है।

इस बाबत युवा लोक जनशक्ति पार्टी के जिलाध्यक्ष रिपुसूदन द्विवेदी बताते हैं कि लगभग 15 वर्ष पूर्व उक्त पुल का निर्माण हुआ था तब क्षेत्र के लोगों में काफी हर्ष का माहौल था। हरपुर व बरिअरवा गांव के बीच की दूरी नजदीकी में परिणत हुई थी। विशेष कर क्षेत्र के गन्ना किसानों को काफी सुविधा हुई थी। परंतु समय के साथ मरम्मती न होने से उक्त पुल व उसके पहुंच पथ की हालत खराब होती गयी। पथ की मरम्मती तो सुगर मिल द्वारा वर्ष में एक बार गन्ना सत्र के समय करा दी जाती है. जो कुछ महीने के लिए ही कारगर होती है, जो इस साल पुल मरम्मत से दुर रहा। वहीं अब पुल का ग्राउंड स्तर भी टूटना शुरू कर दिया है और पुल पर गाड़ी चढ़ते हि पुल का तेज से हिलना सुरू हो जाता है इसकी सूचना वरीय पदाधिकारी को कई बार दिया जा चुका है वही सांसद व विधायक का भी ध्यान आकृष्ट उक्त पुल से कराया जा चुका है लेकिन आश्वासन के अलावा कुछ नहीं होता है भोट के समय लम्बी लम्बी वादे करते आते है लेकिन अभी तक उक्त पुल के पास दुसरा पुल का निर्माण नहीं हो सका अब आवागमन भी उक्त पुल से ठप हो जाएगा। क्षेत्र के विधायक ने आश्वासन दिया है कि शीघ्र ही उक्त पुल का जीर्णोद्धार कर दिया जाएगा, जो आज तक नहीं हो सका क्षेत्र के जनप्रतिनिधि वोट के समय लम्बी लम्बी लुभावन बाते कर वोट तो ले लेते हैैं लेकिन जीतने के बाद फिर दिखाई नहीं  देते हैं।इस पुल का निरीक्षण डीएम साहब भी करीब 2 साल पूर्व कर लिए हैं। ग्रामीणों को आश्वस्त  किए कि इसी जगह बगल मे दुसरा पुल बहुत जल्द बनेगा, जो आज तक सपने बन कर रह गया। वहींं बरिअरवा गाँव के ग्रामीणो का कहना है कि समय रहते अगर उक्त पुल के पास दुसरा पुल का निर्माण नहीं कराया गया तो हम सभी क्षेत्र वासी धरना-प्रदर्शन करेंगे एवं उक्त पुल से कोई बड़ी घटना घट सकती है और इसकी सारी जवाबदेही जनप्रतिनिधि एवं स्थानीय प्रशासन की होगी।