ALL देश विदेश सम्पादकीय राजनीति अपराध खेल मनोरंजन चुनाव आध्यात्म सामान्य
बगहा(प.च.) :: आज भी सकुनी के रूप में पति पत्नी के आपसी विवाद में दिखे मामा अर्जुन
January 10, 2020 • aaditya prakash srivastava • सामान्य

विजय कुमार शर्मा, बगहा प.च. बिहार। बगहा न्यालय में लम्बे समय से चल रहा छोटी सी आपसी विवाद में पति पत्नी के बीच मे आज भी सकुनी मामा के रूप में दिखे पत्नी के मामा अर्जुन शर्मा।

जी हा चरितार्थ करने वाली बात यह है कि पन्नालाल शर्मा पिता महंथ शर्मा निवासी शनिचरी थाना क्षेत्र बासोपट्टी पंचायत के रहने वाले कि शादी दो हजार पांच में हिन्दू रश्मो रिवाज के साथ प्रखण्ड बगहा एक के चौतरवा थाना क्षेत्र अंतर्गत पतिलार निवासी हरिलाल शर्मा के पुत्री रौशनी देवी से शादी हुई थी पति पत्नी के छोटी सी विवाद को लेकर लड़की का मामा अर्जुन शर्मा ग्राम बासगाव मंझरिया थाना भैरोगंज ने अपनी भांजी से अबैध रूप में केश गलत कराकर दोनों को अलग अलग करने का एक केश बगहा न्यालय में करवा दिया तत्पश्चात अलग से दो जगह के दो लोगो को गलत केश में नाम डालकर फसा दिया गया। मजे कि बात यह है कि घर के चौखट के अंदर रहने वाली बहु बनी भाजी को कोर्ट में लाकर उतार दिया जो बगहा न्यालय में केश नम्बर 74/20 ए सी जी एम कोर्ट बगहा में दो हजार नौ में दाखिल हुवा तारीख पर तारीख के वाबजूद विवाद को कोर्ट के समझ दोनों पत्नी पति के बीच का मामला सुलह सपाटा हुवा जिसमे मामा सकुनी अर्जुन शर्मा अपनी ब्याही भाजी रौशनी देवी जिनकी दो बच्चे भी है जिसे अपने पति और बच्चे के पिता के साथ रह कर घर बसाने की अनुमति नही दे रहा है प्रश्न की बात है कि मामा सकुनी अर्जुन शर्मा के साथ पनालाल के बीच आखिर क्या बात है कि पति पत्नी के बीच मझधार में अटकी पत्नी को एक साथ रहने से मना कर रहा है तथा बराबर धमकी दे रहा मामा की कभी भी अपने भांजी को तुम्हारे साथ जाने व रहने नही दूंगा जिसके कारण पनालाल शर्मा की पत्नी एवं अर्जुन शर्मा की भाजी अपनी लोक लाज के साथ मामा के डर व भय से जाने में हिचकिचाह रही है जबकि रौशनी देवी अपने मायके में रहकर हमेशा पति पत्नी का दुभाष पर बराबर बात चीत करते रहते है पूछे जाने पर लड़की के मा बाप कहते हैं कि सब कुछ मामा जानते है कि तुम्हारे साथ जाएगी कि नही जबकि मामा के कारण दोनों मानसिक रूप से तनाव में जी रहे है इस मामले की जानकारी पनालाल शर्मा के द्वरा उनके अधिवक्ता से जानकारी प्राप्त हुई है।